Life Style

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) और योग का महत्त्व – 21 June 2016

International Yoga Day - 21 June 2016
International Yoga Day – 21 June 2016

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस या विश्व योग दिवस (International Yoga Day)

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर साल ’21 जून’ को मनाया जाता है | इस वर्ष यह दूसरी बार ही मनाया जायेगा | इससे पहले यह प्रथम बार पिछले साल ही 21 जून 2015 को मनाया गया था | योग दिवस को प्रतिवर्ष ’21 जून’ को मनाने का निर्णय संयुक्त राष्ट्र द्वारा भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अपील पर लिया गया है।  अंतराष्ट्रीय योग दिवस मनाये जाने के बारे मे जैसे ही मुझे पता चला मुझे बहुत ही खुशी हुई| मैंने खुद योग एवम प्राणायाम के सकारात्मक असर और इसके द्वारा मेरे जीवन मे अाये परिवर्तन को भी गहराई तक महसूस किया है | योग हज़ारों साल से भारतीयों की जीवन शैली का हिस्सा रहा है। ये भारत की धरोहर है। योग में पूरी मानव जाति को एकजुट करने की शक्ति है। दुनिया भर के अनगिनत लोगों ने योग को अपने जीवन का अभिन्न अंग बनाया है। विश्व के कई हिस्सों में इसका प्रचार-प्रसार हो चुका है, लेकिन संयुक्त राष्ट्र के इस निर्णय के बाद हम यह उम्‍मीद कर सकते है कि अब इसका विस्तार और भी तेज़ी से दुनि‍या के कोने कोने में होगा।

प्रस्ताव

international yoga day logo“विश्व योग दिवस” को मनाये जाने की पहल भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 27 सितम्बर, 2014 को ‘संयुक्त राष्ट्र महासभा’ में अपने भाषण में रखकर की थी, जिसके बाद 11 दिसम्बर, 2014 को संयुक्त राष्ट्र में 193 सदस्यों द्वारा 21 जून को ‘अंतरराष्ट्रीय योग दिवस’ को मनाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिली। प्रधानमंत्री मोदी के इस प्रस्ताव को 90 दिन के अंदर पूर्ण बहुमत से पारित किया गया, जो संयुक्त राष्ट्र संघ में किसी दिवस प्रस्ताव के लिए सबसे कम समय है। प्रधानमंत्री मोदी के प्रस्ताव का 175 देशों ने समर्थन किया था। ‘संयुक्त राष्ट्र महासभा’ के अध्यक्ष सैम के. कुटेसा का कहना था कि- “इतने देशों के इस प्रस्ताव को समर्थन देने से साफ है कि लोग योग के फायदों के प्रति आकर्षित हो रहे हैं।”

इसका आधिकारिक नाम यूएन अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day)है और इसे योगा दिवस (Yoga Diwas) भी कहा जाता है। योग, ध्यान, बहस, सभा, चर्चा, विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति आदि के माध्यम से सभी देशों के लोगों के द्वारा मनाये जाने वाला ये एक विश्व स्तर का कार्यक्रम है।

21 जून ही क्यों

21 जून पूरे कैलेंडर वर्ष का सबसे लम्बा दिन है। प्रकृति, सूर्य और उसका तेज इस दिन सबसे अधिक प्रभावी रहता है। साथ ही इस दिन प्रकृति हमें सबसे अधिक उर्जा प्रदान करती है | बेंगलुरू में 2011 में पहली बार दुनिया के अग्रणी योग गुरुओं ने मिलकर इस दिन ‘विश्व योग दिवस’ मनाने पर सहमति जताई थी। इस दिन को किसी व्यक्ति विशेष को ध्यान में रखकर नहीं, बल्कि प्रकृति को ध्यान में रखकर चुना गया है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के लिए पिछले सात सालों के दौरान यह इस तरह का दूसरा सम्मान है। इससे पहले यूपीए सरकार की पहल पर वर्ष 2007 में संयुक्त राष्ट्र ने महात्मा गाँधी के जन्मदिन यानि ‘2 अक्टूबर’ को ‘अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस’ के तौर पर घोषित किया था।

21 जून 2016 को क्‍या कि‍या जायेगा

योग मानव जीवन के लिए अमृत के सामान है। ‘विश्व योग दिवस’ का उद्देश्य योग से प्राप्त होने वाले परोक्ष-अपरोक्ष लाभों के प्रति सम्पूर्ण विश्व के लोगों को जागरूक करना है। इसमें लोगों को ये बताया जाता है कि‍ नियमित योग अभ्यास बेहतर मानसिक, शारीरिक और बौद्धिक स्वास्थ्य की ओर ले जाता है। ये सकारात्मक रुप से लोगों की जीवनशैली को बदलता है और सेहत के स्तर को बढ़ाता है। विश्व योग दिवस पर राष्ट्रीय प्राथमिकता के अनुसा 21 जून को सुबह 7 बजे सभी जिला मुख्यालयों द्वारा सामूहिक योग कार्यक्रम रखा गया जायेगा। ब्लाॅॅक एवं पंचायत मुख्यालयों पर भी कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। योग के अंतरराष्ट्रीय दिवस को मनाने के लिये सभी सदस्य, पर्यवेक्षक राज्य, संयुक्त राष्ट्र व्यवस्था संस्थान, दूसरे शैक्षणिक संस्थान, क्षेत्रीय संगठन, नागरिक समाज, सरकारी संगठन, गैर-सरकारी संगठन तथा व्यक्तिगत रुप से लोग इकट्ठा होते हैं। केन्द्र सरकार के आयुष विभाग द्वारा कार्यक्रम के दौरान किए जाने वाले योगासन के बारे में एक कॉमन प्रोटोकॉल निर्धारित करते हुए बुकलेट तथा फिल्म तैयार की गई है। जि‍सके अनुसार ही पूरा योगासन का कार्यक्रम सम्‍पन्‍न होगा। अत: आप भी इस दि‍न कि‍सी भी संस्‍था मुख्‍यालय पर जाकर योग का लाभ प्राप्‍त करें।

 

योग क्‍या है

“योग” संस्कृत शब्द “युज” से उत्पन हुआ है जिसका अर्थ “जोड़ना” है| योग (Yoga) हमारे शरीर, मन और आत्मा (Mind, Body and Soul) के बीच संयम स्थापित करता जिससे हमारी सुप्त शक्तियां जाग्रत होने लगती है| “Yoga – योग”! 5000 वर्ष पुराना ज्ञान एंव गूढ़ Science है जिसे आज पूरी दुनिया ने माना है| यही वो विज्ञान या संस्कृति है जिसके कारण भारत को विश्वगुरु कहा जाता है| महर्षि पतंजलि ने योग को लिखित रूप दिया और योग सूत्र की रचना की जो आज हमारे लिए वरदान से कम नहीं| भारत से ज्यादा योग विदेशों में फैल चुका है और कोई भी ऐसा देश, ऐसा क्षेत्र नहीं होगा जिसने योग को नहीं अपनाया|

योग धर्म, आस्था और अंधविश्वास से परे एक सीधा विज्ञान है… या कहें कि जीवन जीने की एक कला है योग। मनुष्य हमेशा खुश रहना चाहता है| हर कोई व्यक्ति कभी न कभी यह सोचता है कि काश उसके पास एक ऐसा चमत्कार या शक्ति हो जिससे वह जान सके कि उसके जीवन का उद्देश्य क्या है और वह कैसे हर समय खुश रह सकता है| हम लोग शायद विश्वास नहीं करते लेकिन योग ही वो “विज्ञान”, “शक्ति” या “चमत्कार” है, जो हमारे जीवन को बदल सकता है|जैसे-जैसे हम योग करते जाते है वैसे वैसे हमारे मन, शरीर और आत्मा का संपर्क मजबूत होता जाता है और हमारा जीवन सरल व सकारात्मक होता जाता है|अगर जीवन को जीने का सर्वोतम तरीका (Art of Living) कोई है तो वह “योग” है|

योग का महत्व – Importance of Yoga

योग (Yoga) का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसका कोई नुकसान नहीं होता| इसके सैकड़ों फायदें है जिसे वैज्ञानिकों और चिकित्सकों ने स्वीकार किया है| योग से हजारों लोगों के असाध्य रोगों को दूर किया जा चुका है | सबसे बड़ी बात यह है कि यह एक प्राकृतिक पद्धति है जो हमें प्रकृति के साथ जोडती है| यह योग की ही शक्ति है कि भारत के प्रधानमंत्री (Narendra Modi) जिनके पास सबसे बड़ी जिम्मेदारी है वे हर रोज 18 घंटे कार्य करते है और केवल 3-5 ही सोते है| उनके पास सबसे बड़ी समस्याएँ है लेकिन फिर वे हमेशा खुश और सकारात्मक रहते है| 64-65 वर्ष की उम्र में 18 घंटे कार्य करने के बाद भी वे कभी थके हुए नजर नहीं आते| नरेन्द्र मोदी ने अपनी इस क्षमता का राज योग और प्राणायाम की शक्ति को बताया है|

योग के माध्यम से आत्मिक संतुष्टि, शांति और ऊर्जावान चेतना की अनुभूति प्राप्त होती है, जिससे हमारा जीवन तनाव मुक्त तथा हर दिन सकारात्मक ऊर्जा के साथ आगे बढता है। योग के जरिए न सिर्फ बीमारियों का निदान किया जाता है, बल्कि इसे अपनाकर कई शारीरिक और मानसिक तकलीफों को भी दूर किया जा सकता है। योग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाकर जीवन में नव-ऊर्जा का संचार करता है। योग से उच्च रक्तचाप सामान्य होता है, तनाव कम होता है, मोटापे और कोलेस्ट्रोल पर नियंत्रण होता है इसके साथ ही व्यक्ति का रक्तसंचार तेज होता है जिससे सौंदर्य में भी वृद्धि होती है। इसका प्रभाव तन ही नहीं बल्कि मन पर भी पड़ता है। योगा शरीर को शक्तिशाली एवं लचीला बनाए रखता है साथ ही तनाव से भी छुटकारा दिलाता है जो रोजमर्रा की जि़न्दगी के लिए आवश्यक है। योग आसन और मुद्राएं तन और मन दोनों को क्रियाशील बनाए रखती हैं।

योग की शक्ति का अनुभव अद्भुत होता है जिसे शब्दों द्वारा नहीं बताया जाना संभव नहीं है, इसको केवल अपने जीवन में अपनाकर ही महसूस किया जा सकता है| इसलिए आप आज से ही योग शुरू कर दीजिए क्योंकि कल कभी नहीं आता| विश्वास कीजिए कुछ ही दिनों के भीतर आप अपनी जिंदगी में बदलाव महसूस करने लगेंगे|

योग के बारे में कही जाने वाली सबसे सटीक पंक्ति यही हो सकती है कि “योग स्वयं की स्वयं के माध्यम से स्वयं तक पहुँचने की यात्रा है। ” आइये हम भी इस यात्रा में शामिल हो जाएं और इस जीवन को सफल बनाएं। इसी के साथ आप सभी दोस्तों को 21 जून को मनाये जा रहे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) की आप सभी को ढेरों शुभकामनाएं।

||Thank You||

तो दोस्तों ये था International Yoga Day के बारे में और साथ ही योग का महत्व| उम्मीद करता हूँ कि आपको यह Post पसंद आई होगी और आप भी इसे अपने जीवन में अपनाकर इसका अमृत समान लाभ लेंगें | यदि इसके बारे में आप कुछ और जानकारी चाहते है या आपका कोई प्रश्न हो  तो बिना झिझक के आप मुझसे पूछ सकते है | दोस्तों अगर आपको यह post पसंद आये तो इसे बाकी दुसरे लोगों और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे| Dear Friends, मेरी जिम्मेदारी बनती है कि मैं आपको कुछ अच्छी और सही जानकारी प्रदान करू और अगर आप यहाँ से कुछ सीख रहे हो तो यह आपकी जिम्मेदारी बनती है कि उस जानकारी को निचे दिए गए links पर Click कर शेयर करे और अपने दोस्तों तक पहुँचाये |

Show More

Chandan Saini

दोस्तों मेरा नाम Chandan Saini है और मैं एक IT Professional और Blogger हूँ। इस website को बनाने का मेरा एकमात्र लक्ष्य यही था कि मैं उन लोगों या students की मदद कर सकू, जो internet पर बहुत कुछ सीखना और पढ़ना चाहते है या जो blog और website मे interest तो रखते है परन्तु English अच्छी ना होने के कारण ज्यादा कुछ नही कर पाते है। आपको इस website पर Technology, Social Media, SEO, Blogging, Domain and Hosting, Success Stories, Self Improvement, Online Business, Biography, Gadgets, Tech Tips, Internet, Computer, Laptops, Mobile आदि सभी प्रकार की जानकारी हिन्दी में मिलेगी।

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *