Life Style

फ्रेंडशिप डे स्पेशल : इतिहास, मायने और कैसे मनाये :-)

friendship-day-special
friendship-day-special

Hello Friends,

“दोस्त” अपने आप में एक ऐसा शब्द है जो खुद में पुरे संसार को समेटे हुये है। दोस्ती का रिश्ता सबसे खास और हर रिश्ते से अलग होता है। दोस्ती जीवन का अभिन्न अंग हैं और दोस्तों के बिना जीवन अधुरा हैं। जिन्दगी के हर एक मोड़ पर हमे कुछ खास साथी मिलते हैं जो दिल में जगह बना लेते हैं और बिना किसी चाह के हमारी जिन्दगी से जुड़ जाते हैं। इसलिए तमाम परिभाषाओं से परे, उम्मीदों के पार होती है दोस्ती। लेकिन एक अच्छी दोस्ती को निभाने के लिए हमें उतना ही समर्पण करना होता है जितना सामने वाला हमारे लिए कर रहा है। दोस्ती आसानी से हो तो जाती हैं लेकिन उसे बनाकर रखना आज के समय में बहुत मुश्किल होता जा रहा है।

“Friendship Day” यानि “मित्रता दिवस” हर साल अगस्त के महीने में पहले रविवार को मनाया जाता हैं जो इस बार 7 अगस्त 2016 को आ रहा हैं। यह दिन दोस्तों को समर्पित किया जाता हैं। ऐसे में यह जानना बड़ा इंटरेस्टिंग है कि आखिर कैसे हुआ यह दिन दोस्ती के नाम…

Friendship Day का इतिहास –

दोस्तों वैसे Friendship Day की शुरुआत के बारे में Clear Content उपलब्ध नहीं है, फिर भी Wikipedia के अनुसार इस दिन की शुरुआत 1919 में हुई, जिसका श्रेय जॉएस हॉल को जाता है। अगस्त के पहले रविवार को यह खास दिन मनाने के पीछे वजह यह थी कि अमेरिकी देशों में यह समय ऐसा होता है, जब किसी पर्व की कोई छुट्टी नहीं होती थी। तो दोस्तों और परिवार के साथ अच्छा वक़्त बिताने के लिए इसको मनाने की शुरुआत की गई, परन्तु यह कोशिश ज्यादा कामयाब नहीं हुई और बहुत कम लोगों ने इसे अपनाया। इसके बाद सन 1935 में वर्ल्ड वार का समय था। उस वक्त दोस्ती कि जरूरत सबसे ज्यादा थी, दोस्ती की भावना सभी के भीतर वापस पनपने की, ताकि फिर से लोग एक दुसरे पर भरोसा कर सके, एक देश दुसरे देश से जुड़ सके। इसी कारण US कांग्रेस ने इस एक दिन को Friendship Day के रूप में मनाना निश्चित किया। इस तरह इस खास दिन को सभी देशो ने अपनाना शुरू कर दिया। वैसे प्रथम International Friendship Day 30 जुलाई 1958 को मनाया गया था। 27 जुलाई 2011 को United Nations की General Assembly ने 30 July को Official International Friendship Day घोषित किया। परन्तु फिर भी भारत सहित कुछ देशों में अगस्त के प्रथम रविवार को ही Friendship Day मनाया जाता है।

वर्तमान में Friendship के मायने और Friendship Day का महत्व –

Friendship day एक ऐसा दिन होता है जो हमे कुछ पुराने दोस्तों की याद दिला देता है, क्योंकि उस दिन फ़ोन पर ना केवल हमारे दोस्तों के Calls और Messages आते है, बल्कि Whatsapp और Facebook पर लोगों के friendship quotes और wishes की झड़ी लग जाती है,  लेकिन अगर हम Social Networking की दुनिया के बाहर की बात करें तो हम पायेंगे कि दुनिया तेजी से बदल रही है और साथ ही नैतिक मूल्य भी। जिन्दगी अब पहले जैसे नहीं है और ना ही relations उतने गहरे है जितने पहले थे, क्योंकि अब हमारे पास करने को काम ज्यादा होता है और रिश्तो को देने के लिए समय कम। यही वजह से हम तेजी से आगे तो बढ़ रहे है लेकिन जीवन के मूल्य और relations की अहमियत खोते जा रहे है ऐसे में दोस्ती जैसा रिश्ता भी कुछ ऐसी ही स्थिति से गुजर रहा है। लेकिन दोस्तों ऐसा होना नहीं चाहिए। हमे इन रिश्तों का मूल्य और महत्व समझना चाहिए। सपने बदलते हैं, ट्रेंड्स आते-जाते रहते हैं, लेकिन जिंदगी में दोस्तों की भूमिका, कभी नहीं बदलती। एक नहीं, कई दोस्त आते हैं हमारी जिंदगी में। बचपन से लेकर अब तक आपने कितने दोस्त बनाए होंगे। लेकिन क्या वे सब अभी भी साथ हैं। स्कूल के संगी-साथियों से तो न जाने कब का संपर्क टूट चुका होगा। एक वक्त के बाद हम जिंदगी की व्यस्तताओं में इतने उलझ जाते हैं, कि कई बार चाह कर भी दोबारा पुराने दोस्तों से नहीं मिल पाते, जिनके साथ कभी सुबह से शाम गुजरते पता भी नहीं चलता था। लेकिन यही दोस्त हमारे जीवन की सबसे अनमोल पूंजी होते हैं। इन्हें देखकर ही तो यह एहसास होता है, कि हमने चार दिन की इस जिंदगी में क्या खोया, और क्या पा लिया है…. दोस्ती का रिश्ता सबसे ऊपर होता है, क्योंकि यह रिश्ता हमें विरासत में नहीं मिलता बल्कि आपसी समझ और विश्वास से बनता है, और ताउम्र एक जैसा बना रहता है। समय के साथ साथ यह रिश्ता और प्रगाढ़ होता है।

दोस्त बढ़े पर भरोसा घटा

समय के साथ दोस्ती का मतलब, दोस्तों की जरूरत और दोस्ती के पैमाने, सब बदल चुके हैं। अब तो दोस्ती के रिश्ते का स्वरूप हर पल बदलता दिखता है। जगह और रुचि बदलते ही, जो दोस्ती कभी अटूट दिखती थी, वो औपचारिकता में बदल जाती है। ऐसा नहीं है कि इस बीच हम पुराने दोस्तों को भूल जाते हैं, पर हां समय के साथ समान रुचि वाले लोगों से ही हमारी बातचीत हो पाती है। आमने-सामने की दोस्ती निभाना अब कठिन होता जा रहा है, ऐसे में दोस्तों की संख्या कम होती जाती है। लेकिन हां, व्यस्तता के बीच Social Sites का सहारा लेकर दोस्ती निभाने की कोशिश जारी रहती है। Social Sites पर दोस्तों की संख्या भले ही बड़ी होती है, पर व्यक्तिगत तौर पर ऐसी दोस्ती वक्त पड़ने पर मददगार साबित नहीं होती। अब इंटरनेट की दुनिया में बिना मुलाकात किए भी दोस्त बन जाते हैं। सोशल वेबसाइट्स पर दोस्त बड़ी तेजी से बनते हैं। ऐसा लगता है कि साइट पर मौजूद दोस्त बेहद मिलनसार हैं। पर वास्तव में ऐसा नहीं है। ये दोस्ती महज टाइमपास होती है और इंटरनेट की दोस्ती पर आप ज्यादा भरोसा भी नहीं कर सकतीं।

दोस्ती की नजाकत को समझे – जरूरी है दोस्ती !!!!

वक्त कैसा भी हो पर दोस्त होते थे, होते हैं और होते रहेंगे। बाकी सभी रिश्ते तो खून के कारण बनते हैं पर दोस्त विचारों और अहसास के कारण बनते हैं। एक दुसरे की अच्छी बुरी आदतों को जानने के बाद हम दोस्त बनाते हैं। ये वो रिश्ता है जिसे हम अपनी जिंदगी मैं खुद चुनते हैं। जिसको किसी परिभाषा में बांधा नहीं जा सकता, जिसकी कोई जाति नहीं होती कोई धर्म नहीं होता। कभी अगर आप अपनी जिंदगी के पन्ने पलट कर देखना तो आपकी आखो से आँसू आ जायेगे पर वो दुःख के नहीं ख़ुशी के आँसू होते है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अब ना वो दोस्त मिलते है और ना वो वक़्त है बस है तो उन लम्हों की खुबसूरत यादें। बचपन के दोस्त, स्कूल-कॉलेज के दोस्त, गली-मोहल्ले के दोस्त बरसों बाद जब वे जिंदगी के किसी मोड़ पर फिर से मिलते हैं, तो हमारी पुरानी यादें मन को गुदगुदाने लगती हैं। याद आता है वो गुजरा हुआ जमाना। क्या दिन थे वो भी, थोड़ी मस्ती, थोड़ी शरारतें और कुछ काम की बातें, यही तो है दोस्ती। लेकिन आज दोस्ती कहां है?

किसी के हाथ में Friendship Band बांध देने से दोस्ती गहरी नहीं हो जाती।  हर बात में हां में हां मिलाने वाला आपका दोस्त हो ही नहीं सकता। कुछ मामलों को छोड़ दें, तो जिंदगी में कई ऐसे हालात आते हैं, जब एक सच्चे दोस्त की जरूरत महसूस होती है, जो आपके दुख को धैर्य से सुन सके, बिना आलोचना किए आपको सांत्वना दे सके, समझा सके, बिना झिझके जरूरी सवाल उठा सके। क्या आपकी दोस्ती भी कुछ इस तरह की है! अगर हां, तो आप खुशनसीब हैं। आपको हक है दिल खोलकर अपनी दोस्ती को Celebrate करने का। आपके जीवन के अनमोल पल आपको दोस्तों से ही मिलते हैं। दोस्त जो आपके सुख दुःख का साथी बनता हैं, जो आपको हिम्मत देता हैं। कठिन वक्त में जो आपके पीछे खड़ा होता हैं। सच्चे दोस्त कभी आसानी से नहीं मिलते। हर एक मोड़ पर दोस्त तो बन जाते हैं लेकिन साथ निभाने वाले दोस्त किसी भी मोड़ पर छोड़कर नहीं जाते। इसलिए हर कोई जानने वाला दोस्त नहीं होता हैं दोस्त वो होता हैं जो आपको आपसे ज्यादा बेहतर जानता और समझता हैं। कुल मिलाकर दोस्तों के बिना जीवन अधूरा होता है। दोस्ती को समर्पित ये कुछ पंक्तिया है जो दोस्ती पुरानी यादों को ताज़ा करती है, इसके अज्ञात रचनाकार को बहुत बहुत आभार।

हर एक उम्र के खास दोस्त होते हैं।
बचपन में गली मोहल्ले में यार बन जाते हैं।
स्कूल के टफ कम्पटीशन में साथ खड़े होते हैं।
कॉलेज के दिनों में यही मस्ती मारते हैं।
तो कुछ वन नाईट स्टडी में जगा-जगाकर पढ़ाते हैं।
ऑफिस के टेंशन भरे दिनों में मूवी ले जाते हैं।
तो कुछ घर की टेंशन में हमदर्द बन जाते हैं।
High Tech ज़माने में Facebook Whatsapp Friends बन जाते।
इसी तरह अजनबी करीब आकर करीबी दोस्त बन जाते।

इस Friendship Day पर करें कुछ अलग –

हम पुरे साल बहुत सारे त्यौहार और Special Days Celebrate करते है और उस दिन हम हमारे सभी Family Members के साथ वक़्त बिताते है उनसे मिलते है। ठीक इसी तरह Friendship Day के दिन भी होना चाहिए, आपको अपने नए पुराने दोस्तों को याद करना चाहिए। उनके लिए वक़्त निकालना चाहिए, Call और Message करना चाहिए या फिर मौका मिले तो मिलना चाहिए। क्योंकि इस दिन आपको कोई आपके busy होने के लिए blame करने वाला नहीं है। यह एक दिन आप अपने नए पुराने और school और college में पीछे छूट गये दोस्तो के लिए ही है, इसलिए उन्हें याद कर सकते है और अगर संभव हो तो आप उनके साथ समय बिता सकते है और उन्हें आपकी life में अहमियत जता सकते है college के time के आपके दोस्त आपका roommate और बाकि के सारे दोस्त जिनके साथ आपने वो समय बिताया होता है जो आपके लिए सबसे बेहतरीन था क्योंकि आपको किसी भी तरह की चिंताए उस वक़्त नहीं होती है और सबके साथ आपकी बहुत सारी यादें जुडी होती है आप उन्हें Friendship Day के दिन अपने घर बुलाकर या उनके घर शामिल होकर अपनी sweet memories ताजा कर सकते है। इस दिन आप अपने दोस्तों को Friendship Band भी बाँध सकते है और उन्हें आप कुछ अच्छा सा Gift भी दे सकते हैं। इससे आप यह जता पायेंगे कि आपकी जिन्दगी में उसकी अहमियत है। इस Friendship Day पर आप अपने दोस्त को Special feel करवाना चाहते हैं तो बाजार में आपको ढेर सारे Gifts मिल जाएंगे। मैं आपको कुछ अच्छे Gifts suggest कर रहा हूँ, जिससे आप इस दिन को अपने खास दोस्त के लिए यादगार बना सकते है।

1 कार्ड्स
2 दोस्तों की पुरानी तस्वीरे
3 अपनी सबसे खास चीज अपने दोस्त को दे सकते हैं  जैसे कोई ड्रेस, शर्ट, घडी, गॉगल्स आदि
4 डायरी जिसमे दोस्त के बारे में कुछ खास लिखा हो
5 रिकॉर्डिंग – दोस्त के लिए कुछ बाते रिकॉर्ड करके उसकी सीडी दोस्त को दे सकते हैं |
6 अगर दोस्त को पढने का शौक हैं तो नॉवेल दे सकते हैं |
7 परफ्यूम, वाच, गॉगल्स, ड्रेस, शर्ट, बेग, वॉलेट, केप
8 उसके फेवरेट सेलेब्रिटी की तस्वीरे

 

||Thank You||

तो दोस्तों ये post थी Friendship और Friendship Day के बारे में हिन्दी में। उम्मीद करता हूँ कि आपको यह Post पसंद आई होगी। दोस्तों अगर आपको यह post पसंद आये तो इसे बाकी दुसरे लोगों और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे साथ ही मेरे Facebook Page को Like करे। Dear Friends, मेरी जिम्मेदारी बनती है कि मैं आपको कुछ अच्छी और सही जानकारी प्रदान करू और अगर आप यहाँ से कुछ सीख रहे हो तो यह आपकी जिम्मेदारी बनती है कि उस जानकारी को निचे दिए गए links पर Click कर शेयर करे और अपने दोस्तों तक पहुँचाये।

Show More

Chandan Saini

दोस्तों मेरा नाम Chandan Saini है और मैं एक IT Professional और Blogger हूँ। इस website को बनाने का मेरा एकमात्र लक्ष्य यही था कि मैं उन लोगों या students की मदद कर सकू, जो internet पर बहुत कुछ सीखना और पढ़ना चाहते है या जो blog और website मे interest तो रखते है परन्तु English अच्छी ना होने के कारण ज्यादा कुछ नही कर पाते है। आपको इस website पर Technology, Social Media, SEO, Blogging, Domain and Hosting, Success Stories, Self Improvement, Online Business, Biography, Gadgets, Tech Tips, Internet, Computer, Laptops, Mobile आदि सभी प्रकार की जानकारी हिन्दी में मिलेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *